गाना / Title: दिल के झरोखे में तुझको बिठाकर लिरिक्स - dil ke jharokhe me.n tujhako biThaakar lyrics
चित्रपट / Film: Brahmachari

संगीतकार / Music Director: शंकर - जयकिशन-(Shankar-Jaikishan)

गीतकार / Lyricist: हसरत जयपुरी-(Hasrat Jaipuri)
गायक / Singer(s): मोहम्मद रफ़ी-(Mohammad Rafi)
.................................................................................................................................................................
दिल के झरोखे में तुझको
बिठाकर
यादों को तेरी मैं
दुल्हन बनाकर
रखूँगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

दिल के झरोखे में तुझको
बिठाकर
यादों को तेरी मैं
दुल्हन बनाकर
रखूँगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

कल तेरे जलवे पराये भी
होंगे

लेकिन झलक मेरे ख़्वाबों
में होगी
फूलों की डोली में होगी
तू रुखसत
लेकिन महक मेरे साँसों
में होगी
कल तेरे जलवे पराये भी
होंगे
लेकिन झलक मेरे ख़्वाबों
में होगी
फूलों की डोली में होगी
तू रुखसत

लेकिन महक मेरे साँसों
में होगी
दिल के झरोखे में तुझको
बिठाकर
यादों को तेरी मैं
दुल्हन बनाकर
रखूँगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

अब भी तेरे सुर्ख होठों
के प्याले
मेरे तस्सवुर में साकी
बने हैं
अब भी तेरे ज़ुल्फ़ के
मस्त साए
बिरहा की धूप में साथी
बने हैं
अब भी तेरे सुर्ख होठों
के प्याले
मेरे तस्सवुर में साकी
बने हैं
अब भी तेरे ज़ुल्फ़ के
मस्त साए
बिरहा की धूप में साथी
बने हैं
दिल के झरोखे में तुझको
बिठाकर
यादों को तेरी मैं
दुल्हन बनाकर
रखूँगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

मेरी मोहब्बत को ठुकरा
दे चाहे
मैं कोई तुझसे ना शिकवा
करूँगा
आँखों में रहती है
तस्वीर तेरी
सारी उमर तेरी पूजा
करूँगा
मेरी मोहब्बत को ठुकरा
दे चाहे
मैं कोई तुझसे ना शिकवा
करूँगा
आँखों में रहती है
तस्वीर तेरी
सारी उमर तेरी पूजा
करूँगा
दिल के झरोखे में तुझको
बिठाकर
यादों को तेरी मैं
दुल्हन बनाकर
रखूँगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास
दिल के झरोखे में तुझको
बिठाकर
यादों को तेरी मैं
दुल्हन बनाकर
रखूँगा मैं दिल के पास
मत हो मेरी जां उदास

Dil ke jarokho me lyrics
dil ke jharoke me tujhko bithakar 
yaado ko teri main dulhan banakar 
rakhunga main dil ke paas, mat ho meri jaan udaas
dil ke jharoke me tujhko bithakar 
yaado ko teri main dulhan banakar 
rakhunga main dil ke paas, mat ho meri jaan udaas

kal tere jalwe paraaye bhi honge
lekin jhalak mere khwaabo me hogi
phoolo ki doli me hogi tu rukhsat
lekin mehak meri saanso me hogi 
kal tere jalwe paraaye bhi honge
lekin jhalak mere khwaabo me hogi
phoolo ki doli me hogi tu rukhsat
lekin mehak meri saanso me hogi 
dil ke jharoke me tujhko bithakar 
yaado ko teri main dulhan banakar 
rakhunga main dil ke paas, mat ho meri jaan udaas

ab bhi tere surkh hontho ke pyale
mere tassavur me saaki bane hai
ab bhi teri zulf ke mast saaye
birha ki dhoop me saathi bane hai 
ab bhi tere surkh hontho ke pyale
mere tassavur me saaki bane hai
ab bhi teri zulf ke mast saaye
birha ki dhoop me saathi bane hai 
dil ke jharoke me tujhko bithakar 
yaado ko teri main dulhan banakar 
rakhunga main dil ke paas, mat ho meri jaan udaas

meri mohabbat ko thukra de chaahe
main koi tujhse na shikva karunga
aankho me rehti hai tasveer teri
sari umar teri pooja karoonga
meri mohabbat ko thukra de chaahe
main koi tujhse na shikva karunga
aankho me rehti hai tasveer teri
sari umar teri pooja karoonga
dil ke jharoke me tujhko bithakar 
yaado ko teri main dulhan banakar 
rakhunga main dil ke paas, mat ho meri jaan udaas
dil ke jharoke me tujhko bithakar 
yaado ko teri main dulhan banakar 

rakhunga main dil ke paas, mat ho meri jaan udaas..

Post a Comment

Previous Post Next Post